Join us?

व्यापार

पाम ऑयल का आयात सालाना आधार पर 34.11 प्रतिशत बढ़कर 6,84,000 टन हुआ

 नई दिल्ली। भारत में अप्रैल के दौरान पाम ऑयल के आयात में भारी उछाल आया है। यह सालाना आधार पर 34.11 प्रतिशत बढ़कर 6,84,000 टन हो गया। सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (SEA) ने मंगलवार को कहा कि पाम ऑयल की वैश्विक कीमतों में गिरावट आई है, जिसके चलते भारत में आयात बढ़ा है।
कीमतों में गिरावट से बढ़ा आयात
व्यापार मंडल SEA ने एक बयान में कहा कि अप्रैल में भारत के कुल 13,04,409 टन खाद्य तेल आयात में पाम तेल की हिस्सेदारी 52 प्रतिशत थी। इसमें सूरजमुखी और सोयाबीन तेल का आयात 6,20,315 टन था।
अप्रैल में गैर-खाद्य तेलों सहित कुल वनस्पति तेल आयात 26 प्रतिशत बढ़कर 13,18,528 टन हो गया, जो एक साल पहले 10,50,189 टन था। SEA का कहना है कि ग्लोबल मार्केट में पाम ऑयल की कीमतों में काफी नरमी आई है। यह पिछले महीने तकरीब 100 डॉलर प्रति टन तक घट गई।
सोयाबीन-सूरजमुखी का घटा भाव
वैश्विक स्तर पर सोयाबीन तेल की भाव 40 डॉलर प्रति टन गिर गया। वहीं, सूरजमुखी तेल की कीमत पिछले महीने में 15 अमेरिकी डॉलर प्रति टन कम हो गई। इस वजह से भारतीय कारोबारियों ने आयात बढ़ा दिया। क्रूड पाम ऑयल (CPO) का शिपमेंट 36 प्रतिशत बढ़कर 3,93,856 टन से अधिक 5,36,248 टन हो गया। वहीं, क्रूड पाम कर्नेल ऑयल का आयात 3,990 टन से लगभग 6 गुना बढ़कर 23,618 टन हो गया।
ओवरऑल इस साल घटा आयात
अप्रैल में भले ही खाद्य तेलों के आयात में भारी इजाफा हुआ हो। लेकिन चालू तेल वर्ष (नवंबर-अप्रैल) में अप्रैल तक कुल खाद्य तेल आयात में कमी आई है। SEA के मुताबिक,चालू तेल वर्ष में 70.69 टन खाद्य तेल आयात हुए, जो पिछली समान अवधि में आयात हुए 80.02 लाख टन से करीब 12 फीसदी कम हैं। भारत दुनिया का सबसे बड़ा खाद्य तेल आयातक है। इंडोनेशिया और मलेशिया आरबीडी पामोलीन और सीपीओ के प्रमुख सप्लायर हैं। वहीं, सोयाबीन तेल अर्जेंटीना और ब्राजील से और सूरजमुखी तेल रूस, रोमानिया और यूक्रेन से खरीदा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
अपने लीवर की कैसे करें सुरक्षा अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट की शादी में भारतीय राजनेता अखरोट के फायदे