Join us?

देश

National News: अंतरिक्ष के मलबे से ना टकरा जाए इसलिए चार सेकेंड देरी से लॉन्च किया था चंद्रयान-3

नई दिल्ली। चंद्रयान-3 को अंतरिक्ष मलबे के टुकड़े से बचाने के लिए इसकी लांचिंग में चार सेकेंड की देरी की गई थी। विज्ञानियों ने सूझबूझ दिखाते हुए चार सेंकेंड की देरी नहीं की होती तो चंद्रयान-3 अंतरिक्ष मलबे से टकराकर नष्ट हो सकता था। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने कहा कि टकराव की आशंका से बचने के लिए यह देरी आवश्यक थी। चंद्रयान-3 के प्रक्षेपण में महज चार सेकंड की देरी से चंद्रयान-3 ने टकराव के खतरे के बिना चंद्रमा की यात्रा को बिना बाधा पूरा किया। इंडियन सिचुएशनल स्पेस अवेयरनेस रिपोर्ट (ISSAR) के अनुसार चंद्रयान -3 अंतरिक्ष यान को ले जाने वाले रॉकेट की लांचिंग में चार सेकंड की देरी टक्कर संबंधी आकलन के आधार पर की गई। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार 60 से अधिक वर्षों की अंतरिक्ष गतिविधियों के कारण लगभग 56,450 मलबों को कक्षा में ट्रैक किया गया है, जिनमें से लगभग 28,160 अंतरिक्ष में हैं। यूएस स्पेस सर्विलांस नेटवर्क (यूएसएसएसएन) द्वारा इन्हें नियमित रूप से ट्रैक किया जाता है।
बता दें कि चंद्रयान-3 को 14 जुलाई 2023 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से लांच किया गया था। 23 अगस्त, 2023 को, भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र के पास चंद्रयान-3 के लैंडर विक्रम की साफ्ट लैंडिंग कराकर इतिहास रच दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
अखरोट के फायदे सॉफ्ट स्किन के लिए ऐसे तैयार करे गुलाब फेस पैक… मानसून में बिमारियों से बचे, अपनायें ये उपाय…