Join us?

व्यापार

Business News: सैमसंग इंडिया ने ‘सैमसंग इनोवेशन कैंपस’ का सीजन 2 लॉन्च किया

नई दिल्ली: भारत के सबसे बड़े कंज्‍यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स ब्रांड सैमसंग ने अपने राष्ट्रीय कौशल प्रोग्राम – सैमसंग इनोवेशन कैंपस – के दूसरे सीजन को लॉन्च किया है। इस प्रोग्राम का उद्देश्य एआई, आईओटी, बिग डेटा और कोडिंग एंड प्रोग्रामिंग जैसे भविष्य के तकनीकी डोमेन में युवाओं को कुशल बनाने के लिए तैयार किया गया है। सैमसंग इनोवेशन कैंपस का लक्ष्य 18-25 वर्ष की आयु के युवाओं को भविष्य की तकनीकों में कुशल बनाना और उनकी रोजगार क्षमता को बेहतर करना है। यह प्रोग्राम भारत की विकास गाथा में एक मजबूत भागीदार और योगदान की दिशा में सैमसंग की प्रतिबद्धता को सामने लाता है है। इसे युवाओं के लिए सही अवसर पैदा करने के लिए स्किल इंडिया और डिजिटल इंडिया जैसी भारत सरकार की पहल का समर्थन करने के लिए तैयार किया गया है। इस सप्ताह की शुरुआत में सैमसंग और इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर स्किल्स काउंसिल ऑफ इंडिया (ईएसएससीआई) के बीच भारत भर में 3,500 छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं।
इस वर्ष यह प्रोग्राम केवल कौशल प्रशिक्षण तक सीमित नहीं होगा, बल्कि उससे आगे बढ़कर छात्रों के लिए और अधिक रोमांचक अवसरों को सामने लेकर आएगा। प्रत्येक डोमेन के राष्ट्रीय टॉपर्स को 1 लाख रुपये का नकद पुरस्कार मिलेगा और साथ ही दिल्ली/एनसीआर में सैमसंग केंद्रों का दौरा करने का अवसर भी मिलेगा। इन केंद्रों का दौरा करने से छात्रों को सैमसंग की नेतृत्व टीम के साथ बातचीत करने और उनसे सीखने व समझने का अवसर मिलेगा। राष्ट्रीय पाठ्यक्रम के टॉपर्स को सैमसंग गैलेक्सी बड्स और सैमसंग गैलेक्सी स्मार्टवॉच जैसे रोमांचक सैमसंग उत्पाद भी मिलेंगे। सैमसंग में साउथवेस्‍ट एशिया के प्रेसिडेंट और सीईओ जे बी पार्क ने कहा, “सैमसंग भारत में पिछले 28 वर्षों से देश के विकास में प्रतिबद्ध भागीदार रहा है। हमारा दृष्टिकोण हमेशा युवाओं को कुशल बनाने और उन्हें पेशेवर विकास के अवसरों के साथ सशक्त बनाने के भारत सरकार के उद्देश्यों के साथ जुड़ा रहा है। सैमसंग इनोवेशन कैंपस के माध्यम से, हम कौशल-आधारित शिक्षा का एक मंच तैयार कर रहे हैं जो युवाओं को प्रशिक्षित करके भविष्य के तकनीकी क्षेत्रों में नौकरी के अवसर पैदा करेगा और सार्थक बदलाव लाएगा।” ईएसएससीआई कौशल विकास मंत्रालय के तहत उद्योग संघों द्वारा प्रोमोटेड राष्ट्रीय स्तर का कौशल संगठन है, और राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) के तहत एक सेक्टर स्किल काउंसिल के तौर पर काम करता है। यह अपने स्वीकृत प्रशिक्षण और शिक्षा भागीदारों के राष्ट्रव्यापी नेटवर्क के माध्यम से ऑन-बोर्ड स्थानीय प्रशिक्षण प्रदान करेगा। ईएसएससीआई भारत के छोटे शहरों में लाभार्थियों को पाठ्यक्रम प्रदान करने के अवसरों पर भी विचार करेगा, जहां सबसे बढि़या फ्यूचर-टेक्‍नोलॉजी शिक्षा तक छात्रों की आसान पहुंच नहीं है।
ईएसएससीआई के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (कार्यवाहक सीईओ) अभिलाषा गौर ने कहा, “सीएसआर पहल के लिए सैमसंग के साथ साझेदारी करते हुए ईएसएससीआई बेहद खुश है, जो देश में स्किल ईकोसिस्टम को मजबूत करता है। सैमसंग इनोवेशन कैंपस को देश के युवाओं, विशेष रूप से वंचित छात्रों को भविष्य के तकनीकी डोमेन पर कौशल और आवश्यक जानकारी प्रदान करने के हमारे उद्देश्यों के मुताबिक तैयार किया गया है। हमें उम्मीद है कि प्रोग्राम छात्रों को तकनीकी जानकारी से लैस करते हुए उन्हें नौकरी के लिए तैयार करेगा।” प्रोग्राम के दौरान, प्रतिभागियों को देश भर में ईएसएससीआई स्वीकृत प्रशिक्षण और शिक्षा भागीदारों के माध्यम से प्रशिक्षक के नेतृत्व वाली मिली-जुली कक्षा और ऑनलाइन प्रशिक्षण मिलेगा। प्रोग्राम के लिए नामांकित युवा कक्षा और ऑनलाइन प्रशिक्षण हासिल करेंगे और एआई, आईओटी, बिग डेटा और कोडिंग और प्रोग्रामिंग में चुने गए तकनीकी क्षेत्रों में अपने व्यावहारिक प्रोजेक्ट कार्य को पूरा करेंगे। युवाओं की रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए उन्हें सॉफ्ट स्किल्स का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। प्रतिभागियों को पूरे भारत में ईएसएससीआई के प्रशिक्षण और शिक्षा भागीदारों के माध्यम से आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। इस प्रोग्राम में ऑफलाइन और ऑनलाइन शिक्षण, इमर्सिव हैकथॉन और कैपस्टोन प्रोजेक्ट्स के साथ सैमसंग कर्मचारियों की तरफ से मुहैया कराई गई विशेषज्ञ सलाह शामिल है।
पाठ्यक्रम की रुपरेखा चुने गए पाठ्यक्रम ट्रैक के आधार पर भिन्न होती है। उदाहरण के लिए, एआई पाठ्यक्रम का चयन करने वाले प्रतिभागियों को 270 घंटे के सैद्धांतिक प्रशिक्षण से गुजरना होगा और 80 घंटे का परियोजना कार्य पूरा करना होगा। इस बीच, आईओटी या बिग डेटा पाठ्यक्रम करने वालों को 160 घंटे के प्रशिक्षण से गुजरना होगा, जिसमें 80 घंटे का व्यावहारिक परियोजना कार्य शामिल होगा। कोडिंग और प्रोग्रामिंग पाठ्यक्रम में प्रतिभागी 80 घंटे के प्रशिक्षण में शामिल होंगे और 3 दिवसीय हैकथॉन प्रोग्राम में भाग लेंगे। यह प्रोग्राम चार राज्यों के आठ शैक्षणिक संस्थानों तक फैला होगा। उत्तरी क्षेत्र में लखनऊ और गोरखपुर के अलावा दिल्ली एनसीआर में दो प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किये जायेंगे। दक्षिणी क्षेत्र में, तमिलनाडु और कर्नाटक शामिल होगा, जहां बेंगलुरू के दो प्रशिक्षण केंद्रों के अलावा चेन्नई और श्रीपेरंबुदूर में प्रशिक्षण केंद्र होगा। प्रोग्राम अप्रैल 2024 के दौरान शुरू होने वाला है, और विशेष रूप से डिजाइन किया गया छह महीने का पाठ्यक्रम अक्टूबर 2024 के दौरान समाप्त होगा। पाठ्यक्रम के टॉपर्स की घोषणा नवंबर 2024 में की जाएगी। 2023 के दौरान, सैमसंग इनोवेशन कैंपस ने 3000 छात्रों को भविष्य के तकनीकी पाठ्यक्रमों में सफलतापूर्वक प्रशिक्षित किया। इस पहल में सैमसंग की भागीदारी भारत में कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) गतिविधियों के माध्यम से राष्ट्र निर्माण के प्रति इसकी प्रतिबद्धता को सामने लाती है। यह सैमसंग के अन्य सीएसआर प्रयासों के साथ है, जिसमें सैमसंग सॉल्व फॉर टुमॉरो भी शामिल है। इन पहलों के माध्यम से, सैमसंग भारत के भावी लीडर्स को सार्थक बदलाव लाने के लिए आवश्यक शिक्षा और कौशल प्रदान कर उनका सशक्तिकरण करेगा।
सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड के विषय में सैमसंग दुनिया को प्रेरित करते हुए बदलाव लाने वाले विचारों और तकनीकियों के साथ भविष्य को आकार देता है। कंपनी टीवी, स्मार्टफोन, पहनने योग्य डिवाइस, टैबलेट, घरेलू उपकरण, नेटवर्क सिस्टम और मेमोरी, सिस्टम एलएसआई, फाउंड्री और एलईडी समाधान की दुनिया नए सिरे से परिभाषित कर रही है, और अपने स्मार्टथिंग्स इकोसिस्टम और भागीदारों के साथ खुले सहयोग के माध्यम से एक सहज कनेक्टेड अनुभव प्रदान कर रही है। सैमसंग इंडिया पर नवीनतम समाचारों के लिए, कृपया http://news.samsung.com/in पर सैमसंग इंडिया न्यूजरूम पर जाएं। हिंदी के लिए, सैमसंग न्यूजरूम भारत पर https://news.samsung.com/bharat पर लॉग ऑन करें। आप हमें ट्विटर @SamsungNewsIN पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
ऑल-टाइम फेवरेट कम्फर्ट इंडियन फिल्में सबसे खूबसूरत झरना प्लिटविस झरना अपने लीवर की कैसे करें सुरक्षा